Sat. Jan 22nd, 2022
jodhpur
JODHPUR

जोधपुर विवरण – Jodhpur Overview

Jodhpur शहर जयपुर से तक़रीबन 335 किलोमीटर की दुरी पर बसा एक सुन्दर और पर्यटकों के लिए बहुत ही अच्छा स्थान हे। Jodhpur जनसँख्या के हिसाब से राजस्थान में जयपुर के बाद दूसरा सबसे ज्यादा जनसँख्या वाला शहर हे। जोधपुर शहर Western India की Most Famous Tourist Destination में से एक हे।

Jodhpur शहर थार रेगिस्तान के किनारे पर ही स्थित हे। इसी लिए इसे थार रेगिस्तान का प्रवेशद्वार (gateway of thar desert) भी कहा जाता हे। जोधपुर शहर भारत के सबसे ज्यादा गर्म प्रदेश में से एक हे।राजस्थान के अन्य शहर जैसे अजमेर,बीकानेर और जैसलमेर की तरह यहाँ पर साल में ज्यादातर गर्मिया होती हे। इसी वजय से इसे सूर्यनगरी (Sun City) भी कहा जाता हे।

अगर आप Jodhpur गए हो तो आपने देखा होगा यहाँ पर कई घर हे जो पूरी तरह से नीले रंग के रेंगे हुए हे। इस नील रंग से घर रंगवाने की यहाँ पर दो बाते मिलती हे। एक तो ऐसा माना जाता हे की पुराने ज़माने में जब यहाँ किले का निर्माण हुआ तब किले के आसपास कई ब्राह्मणो ने घर बनाये और अपने आप को अलग दिखाने के लिए ब्राह्मणो ने अपने घरो को नील रंग से रंगवा दिया और यह परंपरा आज भी हे यहाँ पर।

दूसरा तथ्य यह हे नील रंग से जुड़ा की Jodhpur शहर भारत के बहुत ज्यादा गर्म प्रदेशो में से एक हे। तो नीला रंग सूर्य के किरणों को रिफ्लेक्ट करता हे जिससे की बहार बहुत ही ज्यादा गर्मी के बावजूद नील रंग वाले घरो के अंदर ठंडक होती हे।

अपने इन नीले घरो की वजह से Jodhpur को पूरी दुनिया में नीली नगरी (blue city india) के नाम से भी जाना जाता हे

जोधपुर इतिहास – Jodhpur History

अभी का jodhpur city पहले मारवाड़ साम्राज्य का गढ़ यानि राजधानी था। मारवाड़ स्टेट पर राठोड वंश के सूर्यवंशी राजपूतो का शाशन था। यह सूर्यवंशी राठोड राजपूत मूल रूप से मारवाड़ के नहीं थे लेकिन समय गुजरने के बाद अपने साहस और बुद्धि से उन्हों ने मारवाड़ साम्राज्य की स्थापना की। 20 मि सदी की शुरुआत में मारवाड़ साम्राज्य तक़रीबन 1 लाख Square किलो मीटर में फ़ैल गया था।

Jodhpur शहर की स्थापना राठोड वंश के प्रतापी राजा राव जोधा ने 1459 में की थी। उन्ही के नाम से इस शहर का नाम Jodhpur रखा गया था। शुरुआत में मारवाड़ साम्राज्य की राजधानी मंडोर शहर था। लेकिन बाद में इसे Jodhpur में स्थानांतरित कर दिया।

Jodhpur के शाशक सूर्यवंशी राजपूतो थे इसी लिए उनके गढ़ का नाम भी महेरान गढ़ रखा गया। संस्कृत में महेरन में मिहिर शब्द का प्रयोग होता हे और संस्कृत में इस का मतलब सूर्य होता हे। यानि सूर्य का गढ़।

Other Post

Dwarka History And Amazing Places To visit [2021]

SONGADH FORT : POWERFUL FORT OF GAEKWAD EMPIRE [2021]

Alleppey Kerala > Full History And Best Places To Visit [2021]

Varanasi Banaras : 9 Attractive Places To Visit In Varansi

Did You Know About Aurangabad : Top 4 Beautiful Aurangabad Tourist Places

जोधपुर में घूमने लायक जगह – Places To VIsit In Jodhpur

महेरान गढ़ किला – mehrangarh fort jodhpur Also know As jodhpur fort

महेरान गढ़ का किला राजस्थान का ही नहीं पुरे भारत के सबसे बड़े किलो में से एक हे। महेरान गढ़ किले की स्थापना राठोड वंश के सूर्यवंशी राजपूत राजा राव जोधा ने 1459 में शहर की स्थापना के साथ ही किया था।

यह किला सूर्य का दुर्ग के नाम से भी जाना जाता हे। यह किला जोधपुर शहर के बिच में स्थित हे। आप इस किले की छत पर चढ़ कर पुरे जोधपुर शहर का नजारा देख सकते हो।
यह किला जोधपुर की चिडियाटुंक पहाड़ी पर बनाया गया था। इस पहाड़ी के नाम पर दो बाते प्रसिद्ध हे एक तो इस पहाड़ी पर कई चिडियो का वास था इसी लिए इस पहाड़ी का नाम चिडियाटुंक रखा गया। और दूसरी बात की यहाँ पर चिड़ियानाथ करके एक साधु का वास था जो कहा जाता हे की चिड़िया के देव थे उनके नामसे इस पहाड़ी का नाम चिड़ियाटूंक रखा गया।

इस पहाड़ी के नाम से भी इस किले को जाना जाता हे इसे चिडियाटुंक दुर्ग या किला भी कहा जाता हे।

महेरान गढ़ किले में मुख्य तीन बड़े दरवाजे हे जिसका निर्माण अलग अलग मारवाड़ राजाओ द्वारा बनाये गए थे।

पहला द्वार जयपोल नाम से जाना जाता हे जिसका निर्माण मानसिंह राठोड द्वारा 1808 में बनवाया गया था।

दूसरा द्वार लोहापोल नाम से जाना जाता हे। इस द्वार के निर्माण की शुरुआत मालदेव राठोड द्वारा 1548 में की थी लेकिन उसको पूरा राठोड विजयसिंह ने करवाया था।

और इसके तीसरे बड़े द्वार का नाम फतेहपोल हे जिसको राठोड अजीतसिंह द्वारा करवाया गया था। कहा जाता हे की औरंगज़ेब के मरने के बाद यहाँ से खालसा कानून हटा दिया गया था इसी की ख़ुशी में इसे बनाया गया था।

इस किले में कई शानदार कलाकृति और रमणीय महल भी शामिल हे जो इस किले के आकर्षण को बढ़ाता हे। जिसमे पहले स्थान पर फूल महल का समावेश होता हे। फूल महल अपनी बारीक़ और बहुत ही सुन्दर कारीगिरी के लिए जगप्रसिद्ध हे। फूल महल का निर्माण राठोड अभयसिंह ने करवाया था।

दूसरा महल मोती महल के नाम से प्रसिद्ध हे। मोती महल में दिवलो और महल की छत पर बहुत ही सुन्दर और बारीक़ सोने की कारीगिरी की हुई हे। मोती महल का निर्माण शूरसिंह द्वारा किया गया था। लेकिन इसकी छत और दिवलो पर सोने की बारीक़ कारीगिरी का काम महाराज तख्तसिंह द्वारा करवाया गया था।

श्रृंगार चौकी नाम से मशहूर एक जगह भी महेरान गढ़ किले के आकर्षण को बढ़ता हे। श्रृंगार चौकी इस किले के दौलतखाने में स्थित हे। श्रृंगार चौकी में राजा महाराजाओ के राज तिलक होते थे।

यह किला अपनी शाही शानो शौकत के साथ साथ आध्यात्मिक स्थानों के लिए भी जाना जाता हे। यहाँ पर एक पौराणिक चामुंडा माता मंदिर भी हे। जिसका निर्माण राव जोधा ने इस दुर्ग के साथ ही करवाया था।

उमेद भवन पैलेस – umaid bhawan jodhpur

उमेद भवन पैलेस अपने अदभुत डिज़ाइन और वास्तुकला के लिए जाना जाता हे। इस भवन का निर्माण राठोड उमेदसिंह द्वारा 1929 में शुरू करवाया गया था। इस भवन को बनाने में 14 साल लगे थे यानि 1929 में इसका काम शुरू हुआ था और 1943 में जाकर यह बन कर तैयार हुआ था। इस भवन को बनाने के लिए 30000 मजदूरों का सहारा लिया गया था। और इसे बनाने में तक़रीबन 11 मिलियन रुपए का खर्चा हुआ था।

यह भवन अपने अदभुत डिज़ाइन के लिए बहुत ही प्रसिद्ध हे। इसकी डिज़ाइन की जिम्मेदारी मशहूर डिज़ाइनर हेनरी वॉन लान्चेस्टर को दी गई थी। इस भवन को बनाने में बलुआ पत्थर और संगेमरमर का ज्यादा प्रयोग किया गया हे। इसमें कुछ कुछ जगह पर लकड़ी का भी इश्तेमाल किया हे।

उमेद भवन पैलेस मध्यकाल की कला का एक अदभुत और बेजोड़ नमूना हे। यह भवन बहुत ही विशाल और सुंदर हे। इस भवन में तक़रीबन 347 कमरे हे इस के साथ साथ इस भवन में सेकड़ो दरबार हॉल, स्विमिंग पूल.पुष्तकालय और शानदार निजी भोजन कक्ष मजीद हे।

हल के समय में उमेद भवन पैलेस को तीन हिस्सों में बात दिया गया हे। पहले हिस्से में राज घराने के लोग रहते हे, जहा पर आम नागरिको का जाना प्रतिबंधित हे। दूसरे हिस्से में म्यूज़ियम बनाया गया हे जहा पर आप कई पौराणिक चीजों को देख सकते हे। और तीसरे हिस्से को होटल में तब्दील कर दिया गया हे।

जसवंत थड़ा – Jaswant Thada

जसवंत थड़ा बहुत ही सुन्दर और आकर्षक पर्यटन स्थल हे। यह जोधपुर का ही नहीं राजस्थान का बहुत ही अच्छा Tourist Atraction हे। यह थड़ा एक शानदार स्मारक के रूप में जाना जाता हे।

जसवंत थड़ा का निर्माण महाराजा सरदार सिंह द्वारा अपने पिता महाराजा जसवंतसिंह के सन्मान और स्मृति में बनवाया गया था। यह थड़ा जोधपुर पहाड़ी के बिच में बनवाया गया था।

जसवंत थड़ा जो की संगेमरमर के पत्थरो से बनवाया गया हे बीसी लिए जसवंत थड़ा को मारवाड़ का ताजमहल भी कहा जाता हे। इस जगह का उपयोग मारवाड़ शाही घराने के स्मशान के रूप में किया जाता हे।

मंडोर का बगीचा – Mandore Garden

मंडोर गार्डन भी जोधपुर के प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों में से एक हे। यह बगीच जोधपुर के उतर में स्थित मंडोर शहर से तक़रीबन 9 किलोमीटर की दुरी पर बना हुआ हे। इस बगीचे का इतिहास छट्ठी शताब्दी से जुड़ा हुआ हे। मंडोर शहर मारवाड़ साम्राज्य का शुरुआत की राजधानी हुआ करता था लेकिन बाद में इसे जोधपुर ले जाया गया था। मंडोर गार्डन बहुत ही सुन्दर और आकर्षित शाही छत्रिओ से सजा हुआ हे।

घंटा घर – Ghanta Ghar Jodhpur

जोधपुर का यह घंटा घर भी जोधपुर के अन्य पर्यटक स्थल की तरह पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता हे। यह घंटा घर जोधपुर शहर के बीचो बिच बनाया गया हे। पहले यहाँ पर कोई जनसँख्या नहीं थी लेकिन समय के गुजरने के बाद यहाँ पर भी लोगो ने अपने घर बनवाये। हल के समय में यह घंटा घर शहर की सबसे मशहूर मार्किट में से एक हे।
यह घंटा घर का निर्माण महाराजा सरदारसिंह ने आज से लगभग 200 साल पहले बनवाया था। इस घंटा घर को समूर्ण रूप से बलुआ पत्थर से बनवाया गया हे।

खेजड़ला किला – Khejarla Fort

इस किले का निर्माण 17 वि सताब्दी में किया गया था। इस किले के निर्माण में ज्यादातर ग्रेनाइट पत्थर और बलुआ पत्थर का इस्तेमाल किया गे था। जो की इसकी सुंदरता को बढ़ाता हे। इस महल को भी अभी के समय में होटल में तब्दील करवा दिया हे।

अन्य घूमने लायक स्थल स्थल – Other Places To Visit

बालसमंद झीलराव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क
मसूरिया हिल गार्डनकायलाना झील
राय का बाग पैलेसओम बन्ना मंदिर
फलोदीमाचिया जैविक उद्यान
बिश्नोई ग्राम यात्रा
6 thoughts on “Jodhpur Tourist Attraction > Best Places To Visit In Jodhpur [2021]”
  1. […] Jodhpur Tourist Attraction > Best Places To Visit In Jodhpur [2021] […]

  2. […] Jodhpur Tourist Attraction > Best Places To Visit In Jodhpur [2021] […]

  3. […] fort, आकर्षक झीलों, शक्तिशाली हवेलियों, […]

  4. […] Jodhpur Tourist Attraction > Best Places To Visit In Jodhpur [2021] […]

  5. […] Jodhpur Tourist Attraction > Best Places To Visit In Jodhpur [2021] […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *